Will you help us hit our goal?

32.1 C
Varanasi
Friday, September 24, 2021

TAG

Media Bias

BJP candidate Dhurjati Saha, assaulted by TMC MLA G. Mollah’s henchmen on May 2, dies

BJP candidate from the Magrahat West Assembly constituency in South 24 Parganas district -- Dhurjati Saha -- who was allegedly assaulted by Trinamool Congress...

अब “मान्यवर” और आलिया भट्ट ने किया हिन्दुओं के पवित्र अनुष्ठान पर प्रहार

एक बार फिर से हिन्दुओं के विवाह से सम्बन्धित अनुष्ठान पर वार हुआ है और अबकी बार वार किया है “मान्यवर” ब्रांड ने,...

“Don’t hurt Punjab’s economy with protests, do it in Delhi, Haryana”: Punjab CM Amarinder Singh to farmers

In a shocking speech which reeks of parochialism and hypocrisy, Punjab CM was heard requesting protesting farmers to 'not hurt Punjab's economy', but do...

वाम फेमिनिज्म डरता है धार्मिक हिन्दू स्त्री से!

अंतत: अमेरिका में तीन दिनों तक चलने वाली हिंदुत्व के विरोध में की गयी कांफ्रेंस समाप्त हो गयी। और जैसा अपेक्षित था, यह हिदुत्व...

वाम फेमिनिज्म और तालिबान द्वारा औरतों को परदे में कैद करना

जब से तालिबान ने काबुल पर अधिकार किया था, तभी से भारत में वाम फेमिनिस्ट के बीच तालिबान को स्वीकार करने की जैसे एक...

11 सितम्बर 2001, जब दहल उठा था अमेरिका और विश्व इस्लामी आतंक से, पर आज लड़ रहा है “ग्लोबल हिंदुत्व से”

11 सितम्बर 2001, जब अमेरिका और पूरा का पूरा विश्व दहल गया था, दो हवाई जहाज जाकर टकरा गए थे वर्ल्ड ट्रेड टावर पर,...

चित्रा त्रिपाठी – एजेंडा फेमिनिस्ट भी साथ नहीं

5 सितम्बर मुजफ्फरनगर में आयोजित किसान महापंचायत में पत्रकार चित्रा त्रिपाठी के साथ किसानों ने दुर्व्यवहार किया और गोदी मीडिया कह कह कर उनके...

महाश्वेता देवी की कहानी के बहाने विवाद पैदा करना ही वामपंथियों का लक्ष्य

दिल्ली विश्व विद्यालय में इन दिनों महाश्वेता देवी की कहानी द्रौपदी को हटाने के बहाने एक नया विवाद पैदा हो गया है, कि दलित...

स्वरा भास्कर के गृह प्रवेश के बाद अब मंगलसूत्र के कारण प्रियंका चोपड़ा आईं फेमिनिस्ट और वामपंथियों के निशाने पर!

छोटी छोटी बातों पर हिन्दुओं को कोसने वाले सेलेब्रिटीज को कभी कभी असहिष्णुता की खुराक अपने ही वह लोग दे देते हैं, जिनके लिए...

गौमांस खाना मूल अधिकार नहीं है: इलाहाबाद उच्च न्यायालय

दुर्भाग्य की बात है कि वाम और इस्लाम गठजोड़ वाले नेताओं और बुद्धिजीवियों के कारण गौ-मांस भक्षण अवश्य मूलभूत अधिकार के रूप मेप्रचारित हो गया है। और कथित संवेदनशील साहित्यकार जो दीपावली पर कुत्ते के डरने के कारण फुलझड़ी जलाने पर भी प्रतिबन्ध लगाते हैं, वह गाय को काटकर खाने के लिए प्लेट लिए खड़े रहते हैं।

Latest news