HinduPost is the voice of Hindus. Support us. Protect Dharma

Will you help us hit our goal?

HinduPost is the voice of Hindus. Support us. Protect Dharma
31.1 C
Varanasi
Saturday, June 25, 2022

सूफियों द्वारा भारत का इस्लामीकरण- भाग 1

(यह श्री पुरुषोत्तम की पुस्तक “सूफियों द्वारा भारत का इस्लामीकरण” का हिंदी में पुनर्प्रस्तुतिकरण है।  इसे तीन भाग श्रंखला के रूप में प्रस्तुत किया जा रहा है। )

प्रस्तावना

यह अत्यधिक रूप से प्रचारित किया जाता है कि सूफीवाद अध्यात्मवाद और रहस्यवाद से भरा है और ‘हिंदू-मुस्लिम’ एकता और सामाजिक सद्भाव को बढ़ावा देने का एक बहुत प्रभावी साधन हो सकता है, जबकि तथ्य इसके विपरीत है ।

सूफीवाद – इस्लामी धर्मांतरण का एक और चेहरा

भारत में इस्लामी धर्मांतरण गतिविधियों के इतिहास को निकट से देखने पर यह ज्ञात होता है कि सूफीवाद ने अपनी धर्म प्रचारक गतिविधियों के माध्यम से, हिंदुओं के इस्लाम में धर्मांतरण को पूरक बनाया।  सूफीवाद ने एक ओर मुस्लिम आक्रमणकारियों और सुल्तानों को उनकी राजनीतिक गतिविधियों और हिंदुओं की अंधाधुंध हत्याओं में समर्थन दिया, और दूसरी और अध्यात्मवाद और रहस्यवाद के अपने नाटक के माध्यम से भोले-भाले हिंदुओं को प्रभावित किया।  उन्होंने हिंदुओं के नरसंहार और क्रूर मुस्लिम आक्रमणकारियों द्वारा उनके बच्चों और महिलाओं को गुलाम बनाने और बेचने पर कोई आपत्ति नहीं की।

लगभग सभी सूफी आका उपमहाद्वीप में मंदिरों और लूटपाट की जानलेवा तबाही और अंधाधुंध लूट के मूक दर्शक बने रहे।  उन्होंने हिंदुओं की चेतनाशून्य निर्मम सामूहिक हत्याओं और हिंदू मंदिरों के विनाश का विरोध नहीं किया ।

अधिकांश सूफी या तो इस्लामी लुटेरों की हमलावर सेनाओं के साथ भारत आए या इस्लाम के सैनिकों द्वारा व्यापक विजय के मद्देनज़र उनका अनुसरण किया।  उदाहरण के लिए:-
1) 1192 में ख्वाजा मोइनुद्दीन चिश्ती शहाबुद्दीन गौरी के साथ अजमेर गए
2) ख्वाजा कुतुबुद्दीन इल्तुमिश (1211 – 1236) के शासन के दौरान दिल्ली आए थे।
3) शेख फरीदुद्दीन 1265 में पट्टन (अब पाकिस्तान में)आए थे।
4) दरगाह हजरत निजामुद्दीन के शेख निजामुद्दीन औलिया 1335 में मुस्लिम आक्रमणकारियों के एक दल के साथ दिल्ली आए ।
यहां यह बताया जा सकता है कि सभी सूफियों ने कुरान और शरीयत का समर्थन किया।  ग्यारहवीं शताब्दी के महान सूफी गुरु, अल कुशैयरी (1072 एडी) ने सर्वसम्मति से घोषणा की थी कि सूफी हकीका के उद्देश्यों और शरीयत के उद्देश्यों के बीच कोई मतभेद नहीं है।

इसी तरह महान सूफी संत अल-हुइउरी ने कहा कि “अल्लाह के अलावा कोई भगवान नहीं है” ही अंतिम सत्य है और ये शब्द कि “मोहम्मद अल्लाह के रसूल हैं” सूफियों के लिए निर्विवाद कानून हैं।  संक्षेप में, सूफीवाद और इस्लामी उलेमा इस्लामी आस्था के उन्हीं दो पहलुओं का प्रतिनिधित्व करते हैं जिन्हें सभी मुसलमानों द्वारा सार्वभौमिक रूप से स्वीकार किया जाता है ।

पूरे मुस्लिम शासन के दौरान, सभी सूफियों को क्रूर शासकों का पूर्ण विश्वास, शाही अनुग्रह और समर्थन प्राप्त था।  प्रसिद्ध इतिहासकार, डॉ के.एस.लाल के अनुसार,”शासकों के धर्मांतरण के प्रयासों के साथ सूफियों और मौलवियों का भी काम था ” मोहम्मद बिन तुगलक (1326-1351) के समय से लेकर अकबर (1556-1605) तक बंगाल ने उत्तर भारत के विद्रोहियों,शरणार्थियों,सूफी मशैख,असंतुष्ट रईसों और साहसिक लोगों को आकर्षित किया था।  प्रोफेसर के.आर.कुआनुंगो ने देखा कि “बंगाल का धर्म परिवर्तन मुख्य रूप से बराह-औलिया का काम था।  प्रोफेसर अब्दुल करीम ने उग्रवादी सूफी धर्मांतरण का भी उल्लेख किया है।  (बंगाल में मुसलमानों का सामाजिक इतिहास पीपी 136 से 138)

इस संदर्भ में डॉक्टर आई.एच.कुरैशी लिखते हैं -“चौदहवीं शताब्दी,बंगाल और आसपास के क्षेत्रों में मुस्लिम अधिकार के विस्तार की अवधि थी।  इस प्रक्रिया में लड़ने वाले फकीरों द्वारा एक महत्वपूर्ण भूमिका निभाई गई थी जो किसी भी सताए हुए समुदाय के विषय को उठाने के लिए उत्सुक थे।  इसका परिणाम अक्सर स्थानीय सत्ता के साथ संघर्ष होता, जिसके बाद लगभग हमेशा ही राज्य-हरण अथवा अधिमेलन होता है। ” (भारत-पाकिस्तान उपमहाद्वीप का मुस्लिम समुदाय 1610-1974 ),पीपी. 70-71 ) “उन्होंने (सूफियों ने) ज्यादातर शांतिपूर्ण धर्म-प्रचारक के रूप में काम किया, लेकिन अगर उन्होंने देखा कि कुछ लोगों के समर्थन के लिए सैन्य कार्यवाही की आवश्यकता है तो वे लड़ने के खिलाफ भी नहीं थे ।  सूफियों ने आनुक्रमिक धर्मांतरण की इस्माइल तकनीक को नहीं अपनाया।  उन्होंने अपने खानकाह और धार्मिक स्थलों की स्थापना उन जगहों पर की जो इस्लाम से पहले ही पवित्रता के लिए प्रतिष्ठित थे।  संक्षेप में ,सूफी मशैख ने हिंसक और अहिंसक दोनों तरीकों से लोगों का धर्मांतरण किया और उनके पूजा स्थलों पर कब्जा कर उन्हें खानकाहों और मस्जिदों में बदल दिया ताकि पूर्वी बंगाल को, विशेष रूप से मुस्लिम भूमि बनाया जा सके।

मुस्लिम शासकों,सैनिकों और सूफी मशैखों ने इस मामले में उच्च और निम्न के लिये शायद ही कोई विकल्प छोड़ा।  निश्चित रूप से निम्न वर्ग अधिक असुरक्षित थे….” निष्कर्ष में, इस बात पर जोर दिया जा सकता है कि जब ऐतिहासिक ताकतों ने दिल्ली सल्तनत के टूटने के परिणाम स्वरूप देश को कई स्वतंत्र राज्यों में विभाजित किया था तब भी धर्मांतरण का काम बेरोकटोक जारी रहा।  छोटे क्षेत्रों से विस्तार से निपटा जा सकता था और गंभीर मुस्लिम शासकों, रूढ़िवादी उलेमाओं और उत्साही सूफियों ने इसमें प्रभावी ढंग से काम किया।  (भारतीय मुसलमान: वे कौन हैं  प. 58 -59 70)

निम्नलिखित पृष्ठों में,लेखक श्री पुरुषोत्तम ने स्पष्ट रूप से स्थापित किया है कि सूफियों ने सूफी अध्यात्मवाद और रहस्यवाद की आड़ में मुस्लिम शासकों,उनकी सेनाओं और सुन्नी और शिया उलेमाओं के साथ व्यवस्थित रूप से काम किया।

मुझे आशा है कि यह छोटी पुस्तिका पिछली तेरह शताब्दियों के दौरान सूफियों की गतिविधियों के वास्तविक रंगों को समझने में मदद करेगी ।

के.वी.पालीवाल
प्रेसिडेंट
हिंदू राइटर्स फोरम

सूफियों द्वारा भारत का इस्लामीकरण -श्री पुरुषोत्तम

जाफर मक्की ने अपने पत्र संख्या 28, दिनांक 19 सितंबर 1421 में कहा है कि इस्लाम में धर्मांतरण के मुख्य पहलू थे: मृत्यु का भय, परिवार की दासता का भय, आर्थिक प्रलोभन (पुरस्कार,पेंशन और युद्ध लूट) धर्मांतरितों की पैतृक आस्था का अंधविश्वासी धर्मांधता और बहलाने फुसलाने वाली मजहबी दलीलें।  भारत में मुस्लिम शासन के पूरे इतिहास में हम इस प्रक्रिया के खेल को देख सकते हैं।

शासक, जमींदार और मालिक जिनके पास तलवार,कोड़ा और धन था वह मृत्यु का भय,परिवार की दासता का भय,आर्थिक प्रलोभन (पुरस्कार,पेंशन और युद्ध लूट) का उपयोग करते थे।   दूसरी ओर सूफियों और उलेमाओं ने धर्मांतरण के प्रति भलाई की दलीलें और  कट्टरता को नियोजित किया। दोनों प्रक्रियाओं ने एक साथ काम किया, कई बार एक दूसरे की मदद की ।

भारत का इस्लामीकरण, आक्रमणकारियों, सुल्तानों और राजाओं और सूफियों का मुख्य उद्देश्य था।  हिंदू सैनिकों और राजाओं, जिन्होंने भी इस प्रक्रिया का विरोध किया उन्हें बेरहमी से हाथी द्वारा रौंदवा दिया जाता या सिर काट दिया जाता और उनके आश्रितों को गुलाम बना लिया जाता।  अमीर खुसरो लिखते हैं कि जलालुद्दीन खिलजी (1290 से 1296)की हुकूमत के अंतर्गत जब भी कोई हिंदू किसी भी  विजयी सुलतान के हाथों पड़ता तो उसे निर्ममता से हाथियों के पैरों के नीचे कुचल दिया जाता जबकि  मुसलमान कैदियों की जान बक्श दी जाती थी।   हालांकि पूरी हिंदू आबादी, जिसने हठपूर्वक धर्मांतरण से इंकार कर दिया,का सिर काटना संभव नहीं था।   इसलिए हिंदुओं को एक कर (ज़जिया) के भुगतान पर ज़िम्मी के रूप में रहने का विकल्प दिया गया था जो आमतौर पर केवल ईसाइयों और यहूदियों के लिए एक विकल्प था।

फिर भी, ज़िम्मी के रूप में,हिंदू अपनी ही मातृभूमि में द्वितीय श्रेणी के नागरिक बन गए।  “ज़जिया लगाने का मुख्य उद्देश्य काफिरों को अपमानित करना है; और भुगतान की प्रक्रिया के दौरान ज़िम्मी को कॉलर से पकड़ लिया जाता है और उसे उसका निम्नीकरण दिखाने के लिए जोर से हिलाया और खींचा जाता है । ” मृत्यु हर कोने में उनका इंतजार करती क्योंकि मूर्तिपूजक होने के नाते उन्हें केवल एक विकल्प दिया जाता-  इस्लाम अथवा मौत।  इसका उद्देश्य ज़िम्मी को समय के साथ इस्लाम के प्रकाश को देखने और उसे स्वीकार करने के लिए कुछ अवधि देना था।

सूफियों और उलेमाओं ने, हिंदुओं के साथ इस तरह के सौम्य व्यवहार के लिए अक्सर मुस्लिम शासकों द्वारा नाराजगी और अप्रसन्नता का सामना किया है।  दूरदर्शन (भारत का सरकारी टीवी चैनल) द्वारा प्राय: विज्ञापित धर्मनिरपेक्ष सूफी संत अमीर खुसरो लिखते हैं-” खुशहाल हिंदुस्तान,धर्म का वैभव,जहाँ कानून को पूर्ण सम्मान और सुरक्षा मिलती है।  हमारे पवित्र शूरवीरों की तलवार से, सारा देश जैसे आग द्वारा कांटों से निरावृत जंगल सा हो गया है ।  इस्लाम विजयी है, मूर्तिपूजा अधीनस्थ है ।  अगर कानून ने पोल-टैक्स (जजिया) के भुगतान द्वारा मृत्यु से छूट नहीं दी होती तो हिंदू जड़ और शाखा का नाम ही समाप्त हो जाता। “

शांति काल में भी गुलामी की प्रक्रिया अक्षुण्ण चलती रही।  भारी करों का भुगतान करने में असमर्थ हिंदू किसानों को गुलाम बना दिया गया और कर वसूल करने के लिए उन्हें बेच दिया गया।  दास बाजार की ओर जाते हुए परिवारों को रोते बिलखते देखना असामान्य दृश्य नहीं था।  ऐसे सभी गुलाम देर सबेर मुसलमान बन गए क्योंकि उन्हें केवल मुस्लिम खरीददारों को बेचा जाता था ।  उत्तर भारत में मोहम्मद बिन कासिम ने 712 ईस्वी में हिंदुओं को इस्लाम में परिवर्तित करने के लिए तलवार के साथ प्रवेश किया ।  इस्लाम अपनाने के तरीकों में उनकी उपलब्धि का वर्णन किताबों में किया गया है।  उसकी वापसी के साथ ही हिंदू सिंध जल्द ही अपने पुराने धर्म में वापस आ गया, जो कि बुरी तरह बिखर गया था लेकिन जीवित था।

अल्लाह की राह में जिहाद

मोहम्मद बिन कासिम ने सिंध छोड़ दिया लेकिन उसने भारत की उपजाऊ भूमि में इस्लाम का बीज बो दिया था।  देबल, मंसूरा मुल्तान और उछ आदि में अपने उपनिवेश स्थापित करने वाले मुसलमान फले फूले।  909 से 1171 तक फातीमिद शिया कैफाटे के उदय के साथ मुल्तान उनका आश्रित बन
गया।  सिंध की राजधानी मनसूर ने भी उनका आधिपत्य स्वीकार कर लिया।  इस्माइलीज़, जो शियाओं के एक संप्रदाय थे,उत्साही धर्म प्रचारक थे  जिन्होंने अपने धर्मांतरित लोगों के अनुरूप अपनी गूढ़ प्रणाली को बिना किसी हिचकिचाहट के संशोधित कर दिया ।  चौदहवीं और पंद्रहवीं शताब्दी की किंवदंतियों के अनुसार इस्माइली प्रचारकों ने हिंदू धर्मांतरित  लोगों के लिए एक विश्वास विकसित किया कि मोहम्मद की बेटी फातिमा के पति अली, विष्णु के दसवें अवतार थे, कि आदम शिव का एक और पहलू था और मोहम्मद वास्तव में ब्रह्मा थे।

जब सिंध, मुस्लिम नियंत्रण में आया तो कई ब्राह्मणों ने उच्च सरकारी पदों पर अपनी स्थिति बनाए रखने के लिए इस्लाम धर्म ग्रहण कर लिया।  बड़ी संख्या में बौद्ध, जिन्होंने अपने हिंदू शासकों के खिलाफ पांचवें स्तंभकार के रूप में काम किया था, और ब्राम्हण वर्चस्व के प्रति अत्यंत शत्रुता पूर्ण थे, अपने आक्रांताओं के धर्मं में परिवर्तित हो गए।  माना जाता है कि मोहम्मद बिन कासिम ने कई सरदारों को इस्लाम स्वीकार करने के लिए प्रेरित किया और उपयोगिता एवं सुविधा के कारणों से कुछ ने अनुकूल प्रतिक्रिया दी।  कहा जाता है कि पंजाब में आसिफान के राजा ने कुछ मुस्लिम व्यापारियों ,जो एक वर्ग के रूप में हमेशा धर्मांतरण में उत्साही रहे थे,के अनुनय विनय के बाद इस्लाम धर्म अपना लिया था।  कुरान का स्थानीय भाषा में अनुवाद किया गया।  इन प्रयासों के परिणाम स्वरूप 774 सीई तक सिंध में कुछ प्रमुख मुस्लिम साहित्यकार हुए, जो इस्लामी दुनिया में प्रसिद्ध थे।

इस बीच इस्लाम का काफी विस्तार हो चुका था और ट्रांज़ौक्सियाना क्षेत्र में खुद को मजबूती से स्थापित कर लिया था। कई सूफी फारस, इराक, अरब आदि से उस क्षेत्र में आ गए थे ।

सूफी का शाब्दिक अर्थ है ऊनी कपड़े पहने व्यक्ति।  उन्हें ऐसा इसलिए कहा जाता था क्योंकि उन्होंने इस तरह का पहनावा रखा था, जिसे पैगंबर और उनके साथियों का तरीका कहा जाता था ।  सिद्धांत: सूफी ध्यान, उपवास और स्तुति गाकर ईश्वर को प्राप्त करने और गायन और नृत्य द्वारा परमानंद की स्थिति प्राप्त करते में विश्वास रखते थे जो कि कुछ हिंदू संतो के अभ्यास के बिलकुल विपरीत था।  

कई विद्वानों को सूफियों की इन प्रथाओं और उनमें से कुछ द्वारा श्वास नियंत्रण (प्राणायाम)के अभ्यासों की वकालत के बीच बहुत समानता मिलती है, जिसकी हिंदू योग शास्त्र में बहुत प्रशंसा की जाती है।  वह इस समानता को इस तथ्य से जोड़ते हैं कि प्राचीन हिंदू विचार और रहस्यवाद पर विचारों ने खुरासन क्षेत्र में लगातार रुचि जगाई थी, और ये स्वाभाविक रूप से वहां मुस्लिम सूफियों के रहस्यमय अनुभवों से जुड़े हुए थे ।

हालांकि, इस समय एक बात स्पष्ट कर दी जानी चाहिए कि सभी सूफी उत्साही मुसलमान हैं जो पैगंबर, उनकी परंपरा, कुरान और शरीयत में पूर्ण विश्वास रखते हैं।  इसलिए हालांकि, उनके स्मरण का रूप और आचरण (जाप )और ध्यान अक्सर भिन्न थे, उनके बीच कोई शत्रुता नहीं थी, और वह इस्लाम के मूल सिद्धांतों और ढांचे का सख्ती से पालन करते थे जो निश्चित रूप से धर्मांतरण को  बहुत ही सराहनीय और पवित्र कार्य मानते थे।

गजनी के महमूद ने 1001 से 1025 ईस्वी तक भारत पर बारह बार आक्रमण किया ।  इन आक्रमणों के दौरान और उसके बाद  ट्रांज़ौक्सियाना से कई प्रतिभाशाली और साहसी सुन्नी सूफी भारत आए और यहां बस गए और सदी के मध्य तक सूफियों ने पंजाब तक अच्छी तरह से प्रवेश कर लिया और वहां और आसपास के इलाकों में अपना जाल फैला दिया।

जैसा कि हिंदू भारत में आम है, इन सूफियों की चमत्कारी शक्तियों की कहानियां खुद भोले भाले हिंदुओं ने फैलाई थीं।  भ्रष्ट हिंदू धर्म ने महाभारत के बाद, बड़ी संख्या में जानवरों के वध और आत्ममंथन से जुड़े बलिदान और अनुष्ठानों को अपना लिया था।  इस बात ने,प्रतिक्रिया के रूप में,जैन धर्म और बौद्ध धर्म जैसे अत्यंत अहिंसक धर्मों को जन्म दिया। अशोक जैसे शक्तिशाली राजाओं द्वारा समर्थित और प्रोत्साहित बौद्ध धर्म, भारत की सीमाओं से परे,तिब्बत, चीन, जापान, कोरिया, अफगानिस्तान,सीलोन,बर्मा और दक्षिण पूर्व एशियाई देशों जैसे इंडोनेशिया, मलाया इत्यादि में भी शांति पूर्वक और तेजी से फैल गया।  बौद्ध संघों की बृहत् राजशाही सहायता ने असंख्य अकर्मण्य युवक-युवतियों को इन संघों की ओर आकर्षित किया।  परिणामस्वरूप भ्रष्टाचार बढ़ता गया।  आदि शंकराचार्य और अन्य हिंदू संतों ने सार्वजनिक धार्मिक बहस में इन धर्मों को चुनौती दी।  सिंहासन पर आने वाले कुछ शक्तिशाली हिंदू राजाओं ने भी मदद की । बौद्ध धर्म अपने जन्म की भूमि भारत से धीरे-धीरे दूर हो गया लेकिन हिंदू धर्म अपने शोषक चरित्र के कारण संत बुद्ध को विष्णु के अवतारों में से एक और उनके अहिंसा और शंकराचार्य के मायावाद (भ्रम) के सिद्धांत के रूप में स्वीकार किया।  इस प्रक्रिया में, यह वेदों के आक्रामक और मजबूत राष्ट्रीय उग्रवाद को भूल गया और उसकी उपेक्षा की।

जबकि हिंदुओं का आध्यात्मिक निकाय इस प्रकार आक्षेप में था, उसका राजनीतिक निकाय भी बीमार था।  कोई केंद्रीय प्राधिकरण नहीं था, केवल छोटे स्वतंत्र राज्य थे जो एक दूसरे के साथ सदा युद्धरत थे।  इन परिस्थितियों में उनके पास आधुनिक सैन्य रणनीति,प्रशिक्षण और हथियारों का ज्ञान प्राप्त करने का समय नहीं था ,जो भारत के बाहर विकसित हुए थे।

राजनीतिक क्षेत्र में हिंदू भारत की कमजोरी, गजनी के महमूद के अंतर्गत इस्लाम की जोरदार और अनुभवी सेनाओं के हाथों अपनी हार का कारण बनी।

  इस महत्वपूर्ण मोड़ पर सूफीवाद भारत में अदृष्य रूप से प्रवेश कर गया और किसी का उस पर ध्यान भी नहीं गया। इस समय तक हिंदू समाज सभी प्रकार के अंधविश्वासों का शिकार हो चुका था, अच्छी और बुरी आत्माओं में,चमत्कारों और भिक्षुओं की कोई चमत्कारी शक्तियों में, स्वयंसेवक गुरुओं, तांत्रिकों व अघोरियों में विश्वास करने वाला एक ऐसा कैंसर व्याप्त हो चुका था जो केवल अपनी मृत्यु पर समाप्त होता । इसलिए हिंदू धार्मिक मानस, सीमा पार से आए नए संतों (सूफियों) द्वारा किए गए चमत्कारों की शानदार कहानियों पर विश्वास करने के लिए पूरी तरह से तैयार था।  नतीजतन, वे ताबीज, आशीर्वाद और सिफारिशों के लिए बड़ी संख्या में उनके पास आने लगे।  उनका इस्लाम में परिवर्तन अब केवल कुछ समय की ही बात थी।  इस प्रकार सूफियों ने धर्मांतरण के लिए बहुत आसान रास्ता अपनाया।  जबरन धर्म परिवर्तन में मुस्लिम सैनिकों का बहुत खून बहा।  इसने अपने पीछे बहुत कड़वाहट भी छोड़ी।  ऐसे धर्मांतरित लोग मुस्लिम सत्ता के समाप्त होते ही वापस अपने धर्म में चले गए ,जैसे मोहम्मद बिन कासिम के सिंध छोड़ने के तुरंत बाद हुआ।  सूफी पद्धती ने कभी-कभी बिना किसी कड़वाहट और पुनरावृति की संभावना के  सुखद और शांतिपूर्ण तरीके से धर्मांतरण हासिल किया।
 
सोलहवीं और अठारहवीं शताब्दी के बीच फारस, इराक और मध्य एशिया में इस तरह के काम का काफी अनुभव रखने वाले नए सूफी प्रणाली/नियोग द्वारा उपयोग की जाने वाली सफल धर्मांतरण तकनीकों के कारण हिंदुओं का इस्लाम में धर्मांतरण काफी बड़े पैमाने पर हुआ।  आज भारत में जो बड़ी संख्या में धर्मांतरण हो रहे हैं वह भी मृत और जीवित सूफियों की गतिविधियों के कारण हैं।

हालांकि सूफियों को तलवार उठाने और जिहाद में भाग लेने से कोई गुरेज/विरोध नहीं था फिर भी उन्होंने इस उद्देश्य के लिए मुस्लिम सुल्तानों को बुलाया।  उन्होंने स्वयं का,भोले- भाले और अनभिज्ञ हिंदुओं के सामने भक्ति, गायन, नृत्य, त्याग और तपस्या का चेहरा प्रस्तुत किया जिससे वे इतने परिचित थे कि उन्हें ऐसे सूफियों में देवत्व के लक्षण दिखाई देते थे।

(अगले भाग में जारी ) 

अंग्रेजी लेख का लिंक: https://hindupost.in/society-culture/islamization-of-india-by-the-sufis-part-1/

अंग्रेजी से हिंदी अनुवाद- रागिनी विवेक कुमार              

Subscribe to our channels on Telegram &  YouTube. Follow us on Twitter and Facebook

Related Articles

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

Latest Articles

Sign up to receive HinduPost content in your inbox

We don’t spam! Read our privacy policy for more info.