HinduPost is the voice of Hindus. Support us. Protect Dharma

Will you help us hit our goal?

HinduPost is the voice of Hindus. Support us. Protect Dharma
26.1 C
Varanasi
Saturday, August 20, 2022

विश्व प्रसिद्ध पाइथागोरस प्रमेय ही नहीं, पाइथागोरस दर्शन के मूल में भी भारतीयता और सनातन है

ऋग्वेद में राजा मान्धाता के पुत्र और राजा राम के पूर्वज राजा पुरुकुटस का उल्लेख मिलता है। वेदों ने अनुसार, पुरुकुट्स ने अश्वमेध यज्ञ किया और त्रासदसु नामक पुत्र की प्राप्ति की। अश्वमेध यज्ञ राजाओं द्वारा किया जाने वाला एक प्राचीन अनुष्ठान है और यजुर्वेद और शतपथ ब्राह्मण में इस यज्ञ की विधि का विस्तार से वर्णन है। वेदों के अतिरिक्त हमें अन्य प्राचीन पुस्तकों जैसे रामायण और महाभारत में भी इस अनुष्ठान का उल्लेख मिलता है।

आप सोच रहे होंगे कि इसका शीर्षक में उल्लिखित पाइथागोरस से क्या सम्बन्ध है? अश्वमेध यज्ञ करने के लिए आपको विभिन्न आकृतियों की अग्नि वेदी की आवश्यकता होती है। आपकी नियमित चौकोर आकार की अग्नि वेदी उस यज्ञ के लिए पर्याप्त नहीं होती। किसी भी राजा के लिए
बनने वाली सबसे बड़ी वेदी गरुड़ के आकार की होती थी।

इस तरह की वेदी का निर्माण आज भी आसान नहीं है, उस समय कितना कठिन होगा आप समझ सकते हैं। बौधयान के शुलबा सूत्रों में शयेना चिति के रूप में वर्णित, निर्माण के लिए कम से कम 6 प्रकार की ईंटों की आवश्यकता होती है जो कई परतों में व्यवस्थित होती हैं (वेदी 1.5 से 6 फीट ऊंची कहीं भी होती है), और इसके अतिरिक्त “पाइथागोरस प्रमेय” सहित अन्य कई जटिल ज्यामिति नियमों का ज्ञान होना आवश्यक है । हालांकि, पाइथागोरस का जन्म बौधयान के कुछ शताब्दियों बाद हुआ था, यहां तक कि पश्चिमी इतिहासकारो के अनुसार भी।

कुछ समय पहले जब कर्नाटक सरकार ने एक एनईपी टास्क फोर्स गठित की थी, जब उन्होंने एनसीईआरटी द्वारा नई शिक्षा नीति पर एक पेपर प्रस्तुत किया, तो इसमें कहा गया था कि पाइथागोरस का प्रमेय वास्तव में एक भारतीय खोज है। हालांकि, कुछ “पत्रकारों” और कांग्रेस के सदस्यों, विधायकों और कुछ अन्य “उदारवादियों” के अनुसार यह झूठ होगा। जैसे ही यह जानकारी सामने आयी, इन कुंठित लोगो ने इसे झूठ बताना शुरू कर दिया। आप नीचे दिए गए चित्रों में इस विषय पर कुछ लोगों की टिप्पणियों को देख सकते हैं।

वैसे तो हम इन लोगो से हमे कोई आशा नहीं है, लेकिन यह संभवतः इन लोगो की मानविकी और अन्य गैर-वैज्ञानिक विषयों में शिक्षा के कारण हुआ होग। यह कथित पत्रकार और राजनीतिक टिप्पणीकार गणित जैसे वैज्ञानिक विषय से पूरी तरह से अनभिज्ञ हैं, तभी इन्होने इस जानकारी को गलत बताया। इन लोगो का भी कोई दोष भी नहीं है, यह भारत की वर्तमान शिक्षा प्रणाली की कमी हैं, जो इन लोगो को किसी वैज्ञानिक विषय पर शोध किये बिना टिपण्णी करने की स्वतंत्रता देती है। हालांकि इस तरह की टिप्पणी करने से इन लोगो को बचना चाहिए।

यदि कांग्रेस के समर्थको और कथित पत्रकारों कर्नाटक सरकार के पैनल का उपहास करने के स्थान पर श्री मदन गोपाल जी के वक्तव्यों पर ध्यान दिया होता या मात्र ‘बौधयान’ नाम ही गूगल किया होता, तो उन्हें भारत के प्राचीन ऋषि-वैज्ञानिकों के कार्यों के बारे में जानने का अवसर मिलता। उन्हें आश्चर्य होता यह जानकार कि जो बात कर्नाटक सरकार के पैनल ने कही है, वही बात गणित के प्रतिष्ठित प्रोफेसरों ने भी कही है, ऐसे लोगो ने जिन्हे उनके कार्यों के लिए फील्ड्स मेडल तक मिल चुका है, जिसे गणित का नोबेल पुरस्कार माना जाता है।

यहां यह जानना आवश्यक है कि चीन में। यह जानना दिलचस्प है कि चीनी में इस प्रमेय को ‘गौगु नियम’ कहते हैं, जिसका नाम एक चीनी गणितज्ञ के नाम पर रखा गया था, जिसने पहली बार चीन में इसका प्रमेय के गुणों को समझाया था। भरत में, हमारे पास लोगों का एक वर्ग है, जो अपने देशवासियों की उपलब्धियों पर गर्व करने के बजाय पश्चिमी देशों के गुलाम बनना पसंद करेंगे। जबकि चीन के लोग गर्व के साथ अपनी विरासत को बढ़ावा देते हैं। इसलिए, आज भी चीन के अतिरिक्त न्यूजीलैंड की शिक्षा मंत्रालय साइट पर भी पाइथागोरस प्रमेय को गौगु नियम के रूप में भी जाना जाता है।

पाइथागोरस का दर्शन

पाइथागोरस हमेशा से भारतीय वैज्ञानिकों और आध्यात्मिक धाराओं से प्रभावित थे, उनके दर्शन और विचारों को जांचने पढ़ने से यह स्पष्ट हो जाता है। पाइथागोरस ने बुतपरस्त दर्शन के सबसे प्रभावशाली स्कूलों में से एक की शुरुआत की, जिसका नाम उनके नाम पर पाइथागोरस विद्यालय के रूप में रखा गया। यह विद्याला लगभग 700 वर्षों तक अनवरत चलता रहा, और उसके बाद भी इसने मध्य युग में ईसाई और इस्लामी दर्शन को गहराई से प्रभावित किया।

इस विद्यालय के दार्शनिकों द्वारा यह दर्ज किया गया है कि पाइथागोरस एक महान यात्री था और उसने भारत का भ्रमण भी किया था। वहां उन्होंने ब्राह्मणों से दर्शन, गणित और अन्य विज्ञान की शिक्षा ली, और इसका उल्लेख उनकी जीवनी में भी है। पाइथागोरस के अतिरिक्त उसके कई साथी और आगे की पीढ़ियों के छात्रों और चिंतकों ने भी भारत की यात्राएं की। इसका एक उदाहरण टायाना का अपोलोनियस है, जिसने पहली शताब्दी ईस्वी में भारत का दौरा किया था, पाइथागोरस के मरने के पूरे 500 वर्षों बाद।

यही कारण है कि पाइथागोरस के दर्शन पर भारतीय और सनातनी प्रभाव देखा जा सकता है। पाइथागोरस उन कुछ पश्चिमी दार्शनिकों में से एक रहा है जो आत्मा के पारगमन और इसके शाश्वत अस्तित्व में विश्वास करते थे। यह स्पष्ट रूप से सनातनी और भारतीय दर्शन का प्रभाव है। जहां हिंदू धर्म और जैन धर्म जैसे जीवित प्राचीन धर्म भी इसमें विश्वास करते हैं।

पाइथागोरस ने जिस विद्यालय की स्थापना की थी, उसे उन्होंने एक मठ की तरह बनाया गया था, जहां छात्र निवास करते थे और अध्ययन भी करते थे। यह प्रणाली भारत की प्राचीन शिक्षा प्रणाली से प्रभावित थी। जैसे भारत में प्राचीन भारतीय गुरुकुलों और तक्षशिला जैसे विश्वविद्यालयों में अध्ययन हुआ करता था, लगभग वैसे ही व्यवस्था पाइथागोरस ने अपने विद्यालय में बनाने का प्रयत्न किया था। वहां छात्र सदैव सफेद वस्त्र पहना करते थे, वह ब्रह्मांड के हेलियोसेंट्रिक मॉडल में विश्वास करते थे और संख्याओं और संगीत से जुड़े रहस्यवाद में भी विश्वास करते थे।

उपरोक्त सभी तथ्यों के बारे में कई सम्मानजनक लेखकों ने अपनी पुस्तकों में भी लिखा है । कोई भी थोड़ा सा अध्ययन कर यह पता लगा सकता है कि न केवल पाइथागोरस के गणित, बल्कि उनके दर्शन भी भारतीयता और सनातन से प्रभावित थे। लेकिन, क्या आज के भारत के ढोंगी बुद्धिजीवी इन तथ्यों को स्वीकार करेंगे?

Subscribe to our channels on Telegram &  YouTube. Follow us on Twitter and Facebook

Related Articles

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

Latest Articles

Sign up to receive HinduPost content in your inbox
Select list(s):

We don’t spam! Read our privacy policy for more info.