HinduPost is the voice of Hindus. Support us. Protect Dharma

Will you help us hit our goal?

HinduPost is the voice of Hindus. Support us. Protect Dharma
24.1 C
Sringeri
Friday, December 2, 2022

पंजाब में कानून व्यवस्था पर उठे प्रश्न – जालंधर में जागरण पर नशे में धुत युवकों ने किया हमला, वहीं मोहाली में हिन्दू संत की हुई नृशन्स हत्या

पंजाब में पिछले कुछ समय से क़ानून व्यवस्था बिगड़ती जा रही है। जब से आम आदमी पार्टी की सरकार बनी है तब से प्रदेश में हिन्दुओं पर अत्याचार की घटनाएं बढ़ गयी हैं। इन घटनाओं के चलते कहीं न कहीं हिन्दू समाज स्वयं को असुरक्षित महसूस करने लगा है।

ऐसी ही एक घटना जालंधर में घटी, जहां माता के जागरण में घुस कर कुछ लोगों ने हमला कर दिया है। घटना रविवार,13 नवंबर की बताई जा रही है। यह घटना जालंधर के शहीद बाबू लाभ सिंह नगर की है, जहां हिन्दू समाज के लोग माता का जागरण आयोजित कर रहे थे। तभी वहां नशे में धुत युवक आये और उन्होंने माता के जागरण में जमकर हंगामा किया। उन्होंने वहां उपस्थित लोगों के साथ मारपीट भी की, साथ ही महिलाओं को भी अपशब्द कहे और चोट पहुंचाई।

इस घटना के पश्चात नगर में वातावरण तनावपूर्ण हो गया है। पुलिस के अनुसार दो युवक नशे की हालत में लंगर खाने पहुंचे थे। दोनों ही लंगर खिला रहे सेवादारों के बहस करने लगे। जागरण के आयोजकों ने उन दोनों को समझा-बुझा कर वहां से जाने को कहा, और दोनों ही कुछ देर के लिए बाहर चले गये । लेकिन कुछ समय बाद वह युवक दोबारा वहां आ गए और गाली गलौज कर पंडाल में बैठे लोगों पर हमला कर दिया।

इन लोगों ने माता की ज्योति पर भी तलवार से वार किया। घटना के समय वहां उपस्थित श्रद्धालुओं का आरोप है कि इस घटना में स्थानीय प्रशासन की भी मिलीभगत है। इलाके में आए दिन इस प्रकार की गुंडागर्दी की घटनाएं हो रही हैं, और पुलिस इन्हे रोकने में असमर्थ रही है।

घटना के पश्चात लोगों में भारी रोष, हमलावरों को पकड़ने की मांग

इस घटना के पश्चात हिन्दू समाज के लोगों ने आक्रोश फैल गया है। असंतुष्ट हिन्दुओं का वीडियो भी सोशल मीडिया पर वायरल हो रहा है। इस वीडियो में लोगों को पुलिस के समक्ष विरोध करते देखा जा सकता है। एक हिन्दू महिला कह रही है, “आज धार्मिक कार्यक्रम है तो ऐसा हुआ। कल किसी लड़की की शादी हुई तो क्या होगा।” इसी महिला ने आगे कहा कि अगर ऐसी गुंडागर्दी है फिर तो शहर में रहने का फायदा ही क्या है। कार्यक्रम में महिलाओं के साथ छोटे-छोटे बच्चे भी उपस्थित हैं।

इस वीडियो में देखा जा सकता है कि लोग पुलिस की संदिग्ध भूमिका पर प्रश्नचिन्ह लगा रहे हैं। लोगों ने कहा कि आरोपी युवकों ने पुलिस के सामने ही यह कुकृत्य किया। हिन्दू महिलाओं ने वीडियो बना रहे व्यक्ति को हमलावरों द्वारा अस्त-व्यस्त किया गया पंडाल भी दिखाया। यहाँ पानी पीने वाले मग पर भी तलवार मारी गई दिखाई पड़ी। जिस स्थान पर ज्योति जल रही थी, वहाँ भी पूजन सामग्री और प्रसाद आदि सामान बिखरा हुआ था।

पुलिस ने जांच का दावा किया, लेकिन प्रशासन की सुस्ती से लोगों में अविश्वास

माता के जागरण में गुंडागर्दी की सूचना मिलते ही स्थानीय एसएचओ जितेंद्र अपने दल बल के साथ मौके पर पहुंचे। उन्होंने आयोजकों जागरण पुनः शुरू करने को कहा और उन्हें सुरक्षा का आश्वासन भी दिया। आयोजकों ने जागरण शुरू किया, लेकिन श्रद्धालुओं में पुलिस को लेकर अविश्वास की भावना साफ़ दिख रही थी। पुलिस ने कहा कि वह हमला करने वालों का शीघ्र पता लगाकर उन्हें पकड़ लेगी, लेकिन अभी तक उनकी गिरफ्तारी नहीं हुई है, जिससे लोगों में नकारात्मक सन्देश गया है।

मोहाली में हिन्दू संत की हुई नृशन्स हत्या

मोहाली जिले के गांव बुढ़नपुर में चार दशक से कुटिया में रहने वाले महंत शीतल दास (70) की अज्ञात लोगों ने हत्या कर दी। पुलिस के अनुसार हत्यारों ने वृद्ध महंत पर तेज धारदार हथियारों से हमला किया। गांव की महिलाओं ने गुरुवार, 10 नवम्बर को सुबह 10 बजे महंत का खून से लथपथ शव देखा। इसके बाद पुलिस को सूचना दी गई। पुलिस के अनुसार इस हत्या के पीछे इलाके में सक्रिय भैंस चोर गिरोह के सदस्यों का हाथ हो सकता है।

Picture Source -Amar Ujala

स्थानीय लोगों के अनुसार महंत शीतल दास मूलरूप से फतेहगढ़ साहिब जिले के एक गांव के रहने वाले थे। वह लगभग 42 वर्षों से गांव बुढ़नपुर के सरकारी प्राथमिक विद्यालय के पीछे महंत सावन दास की समाधि के पास एक झोपड़ी में रहते थे। घटनास्थल पर डीएसपी से लेकर सभी बड़े पुलिस अधिकारी पहुंचे, वहीं स्थानीय लोगों के आक्रोश को देखते हुए इंस्पेक्टर करमजीत सिंह ने आश्वासन दिया कि जल्दी ही हत्यारों को पकड़ा जाएगा। हालांकि अब तक हत्यारे पकडे नहीं गए हैं।

इन दोनों ही घटनाओं पर स्थानीय प्रशासन और सरकार द्वारा इस घटना पर चुप्पी साध ली गयी है। प्रदेश की भगवंत मान के नेतृत्व वाली आम आदमी पार्टी की सरकार ने इस विषय पर कोई भी वक्तव्य नहीं दिया है, और ना ही हिन्दुओं को किसी भी प्रकार का आश्वासन ही दिया है। पंजाब के हिन्दुओं के मन में कहीं ना कहीं 70 और 80 के दशक वाला माहौल है, और कोई भी नहीं चाहता कि वह समय एक बार पुनः आये।

Subscribe to our channels on Telegram &  YouTube. Follow us on Twitter and Facebook

Related Articles

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

Latest Articles

Sign up to receive HinduPost content in your inbox
Select list(s):

We don’t spam! Read our privacy policy for more info.