HinduPost is the voice of Hindus. Support us. Protect Dharma

Will you help us hit our goal?

HinduPost is the voice of Hindus. Support us. Protect Dharma
31.1 C
Varanasi
Saturday, June 25, 2022

नुपुर शर्मा का वक्तव्य अंतर्राष्ट्रीय चर्चा का विषय है, और चुप्पी का विषय है पाकिस्तान में कराची में मंदिर पर हमला और बांग्लादेश में नुपुर साहा की हत्या?

भारत में नुपुर शर्मा के वक्तव्य अंतर्राष्ट्रीय विमर्श का विषय हैं और जो दिनों दिन यह कहते हुए पाए जाते हैं कि हमारे नबी की शान में गुस्ताखी नहीं बर्दाश्त की जाएगी, और नुपुर शर्मा का सिर काटने की बातें करते हैं। वही लोग अपने बहुमत वाले देशों में क्या करते हैं, यह नहीं देखते। हाल ही में जब नुपुर शर्मा के खून के प्यासे लोग नए नए बहानों से नुपुर को मारने की योजना बना रहे हैं, तो ऐसे में यह कितना विरोधाभासी है कि पाकिस्तान में करांची में मंदिर तोड़ दिया जाता है तो बांग्लादेश में छ माह की गर्भवती नुपुर साहा का शव मिलता है, जिसके विषय में आशंका व्यक्त की जा रही है कि उसके साथ बलात्कार और हत्या की गयी होगी, परन्तु उनके मुंह से एक शब्द भी नहीं निकलता जो नुपुर शर्मा का सिर चाह रहे थे!

बांग्लादेश में नुपुर साहा की हत्या?

जब भारत में नुपुर शर्मा की हत्या की लोग मांग कर रहे थे तो उसी समय बांग्लादेश में भी एक नुपुर चर्चा में थी। 25 वर्षीय नुपुर साहा! 25 वर्षीय नुपुर साहा, जो एक बच्चे की माँ थीं और छ माह की गर्भवती थी, और वह एक एनजीओ में काम करती थीं, उनका शव बांग्लादेश के फरीदपुर जिले के भांगा उपजिला में चौधरी कांदा सदर्दी गाँव के जूट के खेत से पाया गया।

वह 7 जून 2022 को सुबह एक सूक्ष्मऋण (माइक्रोलोन) की किश्त लेने के लिए गयी थीं, मगर फिर वापस नहीं आईं। बुधवार की दोपहर उनका शव मामून शेख के जूट के खेत से मिला। स्थानीय नागरिकों ने पुलिस को सूचना दी और फिर वहां पर सीआईडी की क्राइम सीन यूनिट पहुँची।

पुलिस ने उनके शव को लिया और फिर पोस्टमार्टम के लिए अस्पताल भेजा। अभी इस बात पर पूरी तरह से चुप्पी है कि आखिर नुपुर की मृत्यु कैसे हुई? जिस अवस्था में शव प्राप्त हुआ है, उससे यही आशंका व्यक्त की जा रही है कि उसके साथ सामूहिक बलात्कार हुआ होगा और उसके बाद उसकी हत्या के बाद शव को यहाँ फेंक दिया होगा!

बांग्लादेश में हिन्दू समुदाय इस बात की जांच कराने पर जोर दे रहा है कि नुपुर की हत्या के मामले में तेजी से जांच पूरी हो, जिससे अपराधियों को दंड दिलाया जा सके। और वहीं कुछ लोग यह भी आशंका व्यक्त कर रहे हैं कि कहीं यह नुपुर नाम होने के कारण तो नहीं किया गया है?

बागेरहट में चीतलमारी उपजिला में दीपक सरकार के घर पर हमला

बांग्लादेश में जब नुपुर शर्मा के खिलाफ नारे लगाए जा रहे थे, उसी समय भीड़ ने एक हिन्दू दीपक सरकार के घर पर हमला कर दिया। यह राहत की बात है कि दीपक सरकार और परिवार वहां से भागने में सफल रहे थे तो किसी भी प्रकार की हानि नहीं हुई थी।  दीपक सरकार को यह सूचना मिल गयी थी कि नुपुर शर्मा ने कुछ वक्तव्य दिया है और स्थानीय मुस्लिम उसका विरोध कर रहे हैं।

दुर्गापूजा पर हिन्दुओं पर हुए हमलों के बाद शेख हसीना ने भारत के हिन्दुओं को चेतावनी दी थी

जब बांग्लादेश के हिन्दुओं पर दुर्गापूजा 2021 के बाद लगातार हमले हो रहे थे और हिन्दू मारे जा रहे थे, तो शेख हस्सीना ने भारत के हिन्दुओं को जैसे चेतावनी देते हुए कहा था कि वह कुछ भी ऐसा न करें जिससे वहां के मुस्लिम आक्रोशित हों और हिन्दुओं के विरुद्ध कोई कदम उठाएं। परन्तु यहाँ पर प्रश्न यह उठता है कि इस मामले को भारत का आतंरिक मामला कहने वाली शेख हसीना ने अपने यहाँ के हिन्दुओं की रक्षा के लिए तब कोई कदम नहीं उठाया जब उनके विरुद्ध एक ऐसे मामले में हिंसा हुई, जिसका उनसे कोई लेना देना ही नहीं था!

पाकिस्तान में कराची में मदिर पर हमला

भारत को कई प्रकार की सलाह देने वाला पाकिस्तान अपने देश में अल्पसंख्यकों के साथ कैसा व्यवहार करता है, वह किसी से भी छिपा नहीं है। जब वह नुपुर शर्मा के मामले पर भारत को तमाम प्रकार की सलाहें दे रहा था, तो उसी समय कराची में कोरांगी एरिया में स्थित श्री मरी माता मंदिर में बुधवार को तोड़फोड़ की गई। यह मंदिर कोरांगी पुलिस स्टेशन के पास है।

मीडिया के अनुसार इस हमले के कारण अल्पसंख्यक हिन्दू समुदाय में भय का माहौल है क्योंकि पाकिस्तान में इस प्रकार की तोड़फोड़ आम बात है। पाकिस्तान में हिन्दू लड़कियों का जबरन धर्मांतरण होता ही रहता है। फिर भी पाकिस्तान तक भारत को आँखें दिखा लेता है कि भारत मुस्लिमों के साथ सही व्यवहार करे, जबकि उसके यहाँ लगातार यह भी रिपोर्ट आ रही हैं कि सिंध में आत्महत्या करने वाले हिन्दुओं की संख्या भी बढ़ रही है।

पाकिस्तान, बांग्लादेश और अफगानिस्तान, भारत के तीनों ही पड़ोसी ऐसे हैं, जिनका अल्पसंख्यक के मामले में रिकार्ड्स अत्यंत चिंताजनक है, परन्तु यह भी देखना हास्यास्पद है कि वही देश जो अपने यहाँ से अपने अल्पसंख्यकों को भगाते हैं, वह भारत के हिन्दुओं पर जैसे अप्रत्यक्ष शासन करते हुए धमकाते हैं कि यदि कुछ किया तो हम तुम्हारे हिन्दू भाइयों या शेष मंदिरों पर हमला करेंगे!

इसे ही संभवतया बंधक जनसंख्या सिद्धांत कहा गया है!

Subscribe to our channels on Telegram &  YouTube. Follow us on Twitter and Facebook

Related Articles

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

Latest Articles

Sign up to receive HinduPost content in your inbox

We don’t spam! Read our privacy policy for more info.